FSSAI Hindi Study Notes: FSSAI Study Notes in Hindi | Check Here |

FSSAI Hindi Study Notes: भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण  Food Safety and Standards Authority of India की स्थापना खाद्य सुरक्षा तथा मानक अधिनियम, २००६ के अन्तर्गत किया गया है। इसका उद्देश्य खाद्य सामग्री के लिये विज्ञान पर आधारित मानकों का निर्माण करना तथा खाद्य पदार्थों के विनिर्माण, भण्डारण, वितरण, विक्री तथा आयात आदि को नियन्त्रित करना है ताकि मानव-उपभोग के लिये सुरक्षित तथा सम्पूर्ण आहार की उपलब्धि सुनिश्चित की जा सके। भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण  Food Safety and Standards Authority of India भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत एक स्वायत्त संगठन है | भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण की स्थापना Food Safety and Standards Act 2006 के अंतर्गत सुरक्षा एवं विनयमन की दृष्टी से की गई है | इसलिए कहा जा सकता है की विनियमन एवं पर्यवेक्षण के माध्यम से FSSAI लोगों के स्वास्थ्य की सुरक्षा एवं उसे बेहतर बनाने का काम करती है | कहने का आशय यह है की Food Safety and Standards Authority of India खाद्य पदार्थो/सामग्री का उत्पादन करने वाली इकाइयों पर नियंत्रण एवं निगरानी रखती है | इसलिए जब किसी उद्यमी द्वारा इस प्रकार का कोई बिज़नेस किया जाता है तो उसे FSSAI से लाइसेंस लेना अति आवश्यक है | Food Safety and Standards act 2006 का उद्देश्य खाद्य सुरक्षा एवं मानकों की दृष्टि से आवश्यक सभी मामलों के लिए किसी एक संगठन की स्थापना करने का था |FSSAI Hindi Study Notes

भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (FSSAI) की स्थापना:
जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की FSS ACT 2006 का मुख्य लक्ष्य विभिन्न स्तरों, विभागों के खाद्य सुरक्षा एवं मानकों के कार्य को किसी एक संगठन का निर्माण करके उसको पूर्ण रूप से सौंप देने का था | इसी के चलते भारत सरकार ने 5 September 2008 को Food Safety and Standards Authority of India की स्थापना की | FSSAI की स्थापना इसलिए भी की गई है ताकि खाद्य सम्बन्धी मामलों के लिए एक ही संस्था हो और खाद्य का निर्माण करने वाले निर्माण कर्ताओं, व्यपारियों, निवेशको एवं ग्राहकों को किसी प्रकार की उलझन न हो

FSS ACT 2006 के अंतर्गत FSSAI के Functions:

खाद्य सम्बन्धी आलेखों के संबंध में मानदंडों और दिशानिर्देशों को निर्धारित करने के लिए विनियमों के निर्धारण और इस प्रकार अधिसूचित विभिन्न मानकों को लागू करने की उचित व्यवस्था को निर्दिष्ट करना।
खाद्य सम्बन्धी व्यवसायों के लिए खाद्य सुरक्षा प्रबंधन प्रणाली के प्रमाणीकरण में लगे प्रमाणन निकायों के प्रमाणीकरण के लिए तंत्र और दिशानिर्देश यानिकी Guidelines तैयार करना।
Laboratory अर्थात प्रयोगशालाओं के प्रमाणीकरण और मान्यताप्राप्त प्रयोगशालाओं की अधिसूचना के लिए प्रक्रिया और दिशानिर्देशों को निर्धारित करना।
खाद्य सुरक्षा और पोषण के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित क्षेत्रों में नीति और नियमों को तैयार करने के मामलों में केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को वैज्ञानिक सलाह और तकनीकी सहायता प्रदान करना।

FSSAI Assistant Director/Food Safety Officer/Technical Officer Complete Study Package  (FSO/TO Guide, Question Bank, Previous Papers, Computer Awareness Guide and Current Affairs )

भोजन की खपत, घटनाओं और जैविक जोखिम का प्रसार, भोजन में दूषित पदार्थ, विभिन्न अवशेषों, खाद्य पदार्थों में प्रदूषकों, उभरती जोखिमों की पहचान और तेजी से चेतावनी प्रणाली की शुरूआत के बारे में आंकड़े इकट्ठा और संगृहीत करना भी FSSAI का प्रमुख Function है।
देश भर में सूचना नेटवर्क का निर्माण करना ताकि सार्वजनिक, उपभोक्ता, पंचायत आदि खाद्य सुरक्षा और चिंता के मुद्दों के बारे में तेजी से, विश्वसनीय और उद्देश्यपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकें।
ऐसे व्यक्तियों/उद्यमियों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम (Training Program) की व्यवस्था करना, जो खाद्य सम्बन्धी व्यवसायों में शामिल हैं या खाद्य व्यवसायों में शामिल होने का इरादा रखते हैं।
खाद्य, स्वच्छता और फाइटो सेनटरी मानकों के लिए अंतरराष्ट्रीय तकनीकी मानकों के विकास में अपना योगदान देना भी FSSAI के Functions की लिस्ट में आता है ।
खाद्य सुरक्षा और खाद्य मानकों के बारे में जनता एवं उद्यमियों के बीच सामान्य जागरूकता को बढ़ावा देना |

Prashant Chaturvedi Online Books Store

FSS Act 2006 में पुराने खाद्य पदार्थो से जुड़े लगभग 8 अधिनियमों को इसमें समाहित कर दिया गया है, जिनकी लिस्ट निम्नवत है |

Prevention of Food Adulteration Act 1954
Fruit Products Order, 1955
Meat Food Products Order, 1973
Vegetable Oil Products (Control) Order, 1947
Edible Oils Packaging (Regulation) Order 1988
Solvent Extracted Oil, De- Oiled Meal and Edible Flour (Control) Order, 1967
Milk and Milk Products Order, 1992.
FSSAI यानिकी Food Safety and Standards Authority of India भारत सरकार स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अधीन FSA Act 2006 के अंतर्गत 5 सितम्बर 2008 को स्थापित हुआ एक स्वायत्त संगठन है |

कार्यों को कार्यान्वित करने के लिए FSSAI ने विभिन्न प्रभागों की संरचना की है जिनकी लिस्ट निम्नवत है:

आयात सम्बन्धी उत्पादों पर नियंत्रण रखने वाला विभाग (Import Division)
अन्तराष्ट्रीय सहयोग (International Co-operation)
विनियामक अनुपालन प्रभाग (Regulatory Compliance Division)
खाद्य सुरक्षा प्रबंधन प्रणाली प्रभाग (Food Safety Management System Division)
जोखिम आकलन और शोध एवं विकास प्रभाग (Risk Assessment and R&D division)
सूचना शिक्षा संचार प्रभाग (Information Education Communication Division)
विनियमन और कोडेक्स डिवीजन (Regulation and Codex Division)
गुणवत्ता आश्वासन एवं प्रयोगशाला प्रभाग (Quality Assurance/ lab Division)
मानव संसाधन प्रभाग (HR Division)
मानक प्रभाग (Standards Division)

FSSAI द्वारा विभिन्न खाद्य पदार्थो के लिए मानक निर्धारित किये गए हैं इनमे से कुछ की लिस्ट निम्नवत है:

डेरी से सम्बंधित उत्पादों के लिए (Dairy productsand analogues)
बसा, तेल इत्यादि से सम्बंधित उत्पादों के लिए (Fats,oils and fat emulsions)
फल एवं सब्जी उत्पादों के लिए (Fruitsand vegetable products)
अनाज एवं अनाज सम्बन्धी उत्पादों के लिए |
मांस एवं मांस से उत्पादित उत्पादों के लिए
मछली एवं मछली से उत्पादित उत्पादों के लिए
मिठाई एवं कन्फेकशनरी
मीठा करने के एजेंट शहद सहित (Sweetening agents including honey)
नमक, मसाले और अन्य मसालों से सम्बंधित उत्पाद
पेय पदार्थ (Beverages)
अन्य खाद्य पदार्थ एवं खाद्य सामग्री
Proprietary food
खाद्य के विकिरण (Irradiation of food)

भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण के लक्ष्य (FSSAI Objectives in Hindi):

FSSAI के यदि हम लक्ष्यों की बात करें तो इसका मुख्य लक्ष्य सामान्य जनमानस यानिकी ग्राहकों को जहरीले एवं खतरनाक खाद्य पदार्थों से बचाने का है यही कारण है की लगभग सभी खाद्य पदार्थों की Manufacturing से लेकर उनकी पैकेजिंग करने तक के लिए FSSAI ने मानक निर्धारित किये हैं | ताकि ग्राहकों को बाज़ार में वह खाद्य सामग्री मिले जो उनके स्वास्थ्य को कोई नुकसान न पहुंचा सके | खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अनुसार धोखा, खाद्य सामग्री में मिलावट, उत्पाद के प्रति किसी ग्राहक को भ्रमित करना सख्त मना है | इसलिए खाद्य से सम्बंधित किसी प्रकार का भी कोई बिज़नेस करने के लिए FSSAI License की आवश्यकता होती है | और उद्यमी को अपना उत्पाद बाज़ार में बेचकर कमाई करने से पहले उसे खाद्य सुरक्षा मानकों पर खरा उतारना होता है | इसलिए उद्यमी को चाहिए की वह अपने उत्पाद के किसी सैंपल को किसी FSSAI द्वारा मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला में टेस्ट करने हेतु भेजने से पहले स्वयं ही उसका निरीक्षण कर ले उसके लिए उद्यमी निम्नलिखित बातों का ध्यान रख सकता है |

उद्यमी चाहे तो अपने उत्पाद का Hazard Analysis Test कर सकता है | और कोई नुकसानदेह पदार्थ मिलने पर उस खास सामग्री की मात्रा को कम या बिलकुल हटाया जा सकता है |
उद्यमी को चाहिए की हर एक नियंत्रण पॉइंट के लिए एक सीमा निर्धारित करे और खाद्य सामग्री बनाने की प्रक्रिया को बनाये रखने के लिए कोई निश्चित प्रक्रिया का क्रियान्वयन करे | और उस सामग्री को बनाने में सही स्टेप लिए गए हैं या नहीं इसके लिए एक verification procedures स्थापित करे |
उद्यमी को चाहिए की समय समय पर वह अपने उत्पाद सम्बन्धी प्रशिक्षण प्राप्त करता रहे | ताकि वह खाद्य उत्पादों को हैंडल करने की नई नई तकनीके सीखता रहे |
वैसे तो जब से Food Safety and Standards Authority of India (FSSAI) की स्थापना हुई है तभी से इसके खाद्य सुरक्षा के प्रति दिए योगदान को भुलाया नहीं जा सकता |

FSSAI Hindi Study Notes: FSSAI Study Notes in Hindi |

खाद्य अपमिश्रण अधिनियम, १९५४

खाद्य पदार्थ के अपमिश्रण द्वारा जनता की स्वास्थ्यहानि को रोकने के लिए प्रत्येक देश में आवश्यक कानून बनाए गए हैं। भारत के प्रत्येक प्रदेश में शुद्ध खाद्य संबंधी आवश्यक कानून थे, किंतु भारत सरकार ने सभी प्रादेशिक कानूनों में एकरूपता लाने की आवश्यकता का अनुभव कर, देश-विदेशों में प्रचलित काननों का समुचित अध्ययन कर, सन्‌ 1954 में खाद्य अपमिश्रण निवारक अधिनियम (प्रिवेंशन ऑव फ़ूड ऐडल्टशन ऐक्ट) समस्त देश में लागू किया और सन्‌ 1955 में इसके अंतर्गत आवश्यक नियम बनाकर जारी किए। इस कानून द्वारा अपद्रव्यीकरण तथा झूठे नाम से खाद्यों का बेचना दंडनीय है। वैधानिक दृष्टि से निम्नलिखित दशाओं में खाद्य अपद्रव्यीकृत माना जाता है:

वह पदार्थ जिसका स्वाभाविक गुण, सारतत्व, या श्रेष्ठतास्तर ग्राहक द्वारा अपेक्षित पदार्थ से अथवा सामान्यत: बोध होने वाले पदार्थ से भिन्न हो और जिसके व्यवहार से ग्राहक के हित की हानि होती हो।

वह पदार्थ जिसमें कोई ऐसा अन्य पदार्थ मिला हो जो पूर्णत: अथवा आंशिक रूप से किसी घटिया या सस्ती वस्तु में बदल दिया गया हो अथवा जिसमें से कोई ऐसा संघटक निकाल लिया गया हो जिससे उसके स्वाभाविक गुण, सारतत्व या श्रेष्ठतास्तर में अंतर हो जाए।

वह पदार्थ जो दूषित या स्वास्थ्य के लिए हानिकर हो, जिसमें गंदा, पूतियुक्त, सड़ा, विघटित या रोगयुक्त प्राणिद्रव्य या वानस्पतिक वस्तु मिलाई गई हो, जिसमें कीट या कीड़े पड़ गए हों, अथवा जो मनुष्य के आहार के अनुपयुक्त हो।

वह पदार्थ जो किसी रोगी पशु से प्राप्त किया गया हो, जो विषैले या स्वास्थ्यहानिकारक संघटकयुक्त हो, या जिसका पात्र किसी दूषित या विषैले वस्तु का बना हो।

वह पदार्थ जिसमें स्वीकृत रंजक द्रव्य (कलरिंग मैटर) के अतिरिक्त कोई ऐसा अन्य रंजक मिला हो जिसमें कोई निषिद्ध रासायनिक परिरक्षी हो, अथवा स्वीकृत रंजक या परिरक्षी द्रव्य की मात्रा निर्धारित सीमा से अधिक हो।

वह पदार्थ जिसकी श्रेष्ठता अथवा शुद्धता निर्धारित मानक से कम हो, अथवा उसके संघटक निर्धारित सीमा से अधिक हों।

इसी प्रकार निम्नलिखित दशा में खाद्यों को अपनामांकित (मिसब्रैंडेड) कहा जाता है:

वह पदार्थ जिसका बिक्री का नाम अन्य पदार्थ के नाम की नकल हो, या, इस प्रकार मिलता जुलता हो कि धोखे की संभावना हो और उसके वास्तविक गुणधर्म प्रकट करने के लिए उसपर कोई स्पष्ट और व्यकत नामपत्र (लेबिल) न हो।

वह पदार्थ जो असत्य रूप से किसी देश-विदेश का बना बताया जाय, जो किसी अन्य वस्तु के नाम से बेचा जाए, जिसके संबंध में नाममत्र पर, या अन्य रीति से झूठे दावे किए जाएँ और जो इस प्रकार रंजित, स्वादित, लेपित, चूर्णित या शोधित हो, जिससे उसके विकृत होने का भाव छिप जाय, अथवा जो अपनी वास्तविक दशा से उत्तम या मूल्यवान्‌ दिखाया जाए।

वह पदार्थ जो बंद बेठनों में बेचा जाए और उसके बाहरी भाग पर उसमें रखे हुए पदार्थ की निर्धारित घट बढ़ सीमा के अनुसार ठीक उल्लेख न हो।

वह पदार्थ जिसके नामपत्र पर कोई ऐसा उल्लेख, चित्र या उक्ति हो जो असत्य, भ्रामक या छलपूर्ण हो, जो किसी कल्पित व्यक्ति द्वारा निर्मित बताया जाए और जिसमें प्रयुक्त कृत्रिम रंजक, वासक (फ्लेवरिंग एजेंट), या परिरक्षी वस्तु का उल्लेख न हो।

वह पदार्थ जो किसी विशिष्ट आहार के उपयुक्त बताया जाए, परंतु उसके नामपत्र पर उसकी उपयोगिता के सूचक, उसके खनिज, विटामिन अथवा आहार विषयक संघटकों की सूचना न हो।

PAY NOW to get FSSAI Study Materials PDF file on your email address. PDF file is password protected. Kindly enter correct email address and phone number. We will send PDF file (If available) only on your email address with in 24 hours after successful payment. Fee once paid will not refund under any circumstances.

FSSAI Complete Study Notes

For cracking FSSAI Exam, you need to build a smart preparation strategy which must include the task of practicing FSSAI Previous Year Paper as it will help in improving your speed and accuracy. So, to enhance your chances of clearing FSSAI Exam 2019, we are sharing FSSAI Previous Year Paper

Prashant Chaturvedi Online Books Store

FSSAI COMPLETE STUDY PACKAGE @50% OFF: CHECK HERE

FSSAI ONLINE TEST SERIES 2019: CHECK HERE

FSSAI PREVIOUS YEAR PAPERS: CHECK HERE

FSSAI 2019 EXAM DATES: DOWNLOAD OFFICIAL NOTICE PDF

Introducing ATCAdda.com

45% Discount on Test Series

Eid Mubarak 45% Discount On All Test Series

45% Discount on eBooks

Eid Mubarak 45% Discount

Also Read: List of Union Council of Ministers 2019 PDF

Also Read: Chief Ministers & Governors List 2019 PDF

Also Read: Who is Who in India 2019 Latest List

Also Read: Who is Who in the World 2019 Latest List

Also Read: Lok Sabha Election 2019 Winners List PDF: Download PDF |

Also Read: EPFO Assistant Recruitment 2019

Also Read: NABARD Assistant Manager Recruitment 2019

Also Read: DRDO CEPTAM-09 Technician Recruitment 2019

Also Read: LIC ADO Recruitment 2019

Also Read: NFL Management Trainee Recruitment 2019

Also Read: Static GK 2019 PDF Notes- Get Free Static GK Notes PDF

Also Read: Latest Sarkari Naukri 2019 | Vacancy 2019 | Check here |

Also Read: Join Our Telegram Channel- Click Here

Prashant Chaturvedi

Related posts

3
Leave a Reply

Leave a Reply

  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
Om prakash bana
Guest
Om prakash bana

Sir please share matter early as possible as because payment have done

Om prakash bana
Guest
Om prakash bana

Sir I want matter in Hindi but your matter which send me in English so please send me in Hindi

Akash Gupta
Guest
Akash Gupta

Hi
Kindly send your E mail